प्रोफेसर कैसे बने? | प्रोफेसर किसे कहते हैं?

आज के युवा देश का भविष्य है और उन्हें जितनी अच्छी शिक्षा प्राप्त होगी हमारे देश का भविष्य उतना ही उज्ज्वल होगा शिक्षा के क्षेत्र में गुरु का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है बिना गुरु के शिष्य का कोई वजूद नहीं है शिक्षित व्यक्ति का जीवन सार्थक होता है और इस जीवन को सार्थक बनाने के लिए गुरु की आवश्यकता होती है.

कुछ लोगों की दिलचस्पी पढा़ई में अधिक होती है और वे अपना करियर शिक्षा के क्षेत्र में ही बनाना चाहते हैं शिक्षा के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपको कई सरे पदों के आप्शन मिलते है जिनमे से एक पद प्रोफ़ेसर का होता है यदि आप प्रोफेसर बनना चाहते है तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको प्रोफेसर कैसे बने?, इसके लिए क्या योग्यता होती ह? और प्रोफेसर की सैलरी कितनी होती है इन सभी विषयोंके बारे में बताएंगे तो आर्टिकल को अंत तक जरूर पढें.

professor kaise bane in hindi
professor kaise bane in hindi

प्रोफेसर किसे कहते हैं?

जो व्यक्ति यूनिवर्सिटी या कॉलेज में किसी एक ही विषय को पढ़ाता है वह उस विषय का एक्सपर्ट होता है उसे प्रोफेसर कहते हैं प्रोफेसर का कार्य सिर्फ़ पढ़ाने तक ही सीमित नहीं है इसके अलावा प्रोफेसर को बहुत सारी जिम्मेदारी निभानी होती है जैसे रिसर्च करना, ऐड्मिनिस्ट्रेटिव इशू को सॉल्व करनाआदि यूनिवर्सिटीज़ में प्रोफेसर द्वारा एक साथ कई बच्चे शिक्षा ग्रहण करते है और अपना भविष्य उज्ज्वल बनाते हैं क्योंकि बिना शिक्षा के कोई भी कार्य संभव नहीं है प्रोफेसर भी कई प्रकार के होते हैं जैसे- असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, विज़िटिंग प्रोफेसर, एमेरिटस प्रोफेसर, हेड ऑफ डिपार्टमेंट आदि.

प्रोफेसर बनने के लिए योग्यता

प्रोफेसर बनने के लिए आपको बारहवीं न्यूनतम 55% अंकों के साथ उत्तीर्ण करनी होगी और फिर किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से बैचलर की डिग्री प्राप्त करनी होगी जिसमे न्यूनतम 55% अंक होने चाहिए मास्टर्स की डिग्री पूरी करनी होगी जिसमें न्यूनतम  55% मार्क्स होने आवश्यक है बिना मास्टर्स की डिग्री पूरी किये आप NET प्रवेश परीक्षा नहीं दे सकते और बिना प्रवेश परीक्षा पास किए प्रोफेसर बनना संभव नहीं है प्रोफेसर बनने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा UGC-NET, TIFR, JRF-GATE पास करनी होंगी इसके पश्चात् आपको किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्य करना होगा असिस्टेंट प्रोफेसर को प्रमोशन के बाद प्रोफेसर बनाया जाता है प्रोफेसर बनने के लिएकिसी भीउम्र सीमा का निर्धारण नहीं किया गया.

प्रोफेसर कैसे बने?

  • प्रोफेसर बनने के लिए सबसे पहले आपको बारहवीं उत्तीर्ण करनी होगी जिसमे न्यूनतम 50% अंक होने चाहिए.
  • उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से अपने मनचाहे विषय के साथ बैचलर की डिग्री प्राप्त करनी जिसमें 55% मार्क्स होने आवश्यक हैं.
  • उसके बाद आप जिंस विषय प्रोफेसर बनना चाहते हैं आपको उस विषय में मास्टर्स की डिग्री पूरी करनी होगी जिसमे कम से कम 50% से 55% अंक होने चाहिए.
  • मास्टर की डिग्री प्राप्त करने के बाद आपको प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी जैसे-UGC-NET, TIFR, JRF-GATE आदि.
  • नेट क्लियर करने के बाद आप किसी भी यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर उसके पद के लिए आवेदन कर सकते हैं.
  • प्रवेश परीक्षा क्लियर करने के बाद आपको HhD या Fhil में से कोई एक डिग्री पूरी करनी होगी जिसके बाद आप एक स्थाई प्रोफेसर बन पाएंगे प्रोफेसर बनने के लिए पीएचडी की डिग्री बहुत ही आवश्यक है किंतु यह अनिवार्य नहीं है कि आप एमफिल या पीएचडी की डिग्री करने के बाद ही प्रोफेसर बनेंगे.
  • सरकारी या फिर गवर्नमेंट कॉलेज का प्रोफेसर बनने के लिए आप आवेदन कर सकते हैं सरकारी कॉलेज के लिए आपको प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी किंतु कुछ प्राइवेट कॉलेज ऐसे हैं जो बिना किसी प्रवेश परीक्षा के ही असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर जॉब प्रदान करते हैं बस सिर्फ उन्हें सैलरी कम मिलती हैं.

प्रोफेसर के कार्य

प्रोफेसर बनने के बाद बच्चों को पढ़ाने के अलावा और भी कई जिम्मेदारियां निभानी पड़ती है जैसे -यूनिवर्सिटी में लेक्चर्स और कोर्स करिकुलम को तैयार करना, एग्जाम पैटर्न तैयार करना, स्टूडेंट्स को सुपरवाइज करना, नई टीचिंग तकनीक पर रिसर्च करना, प्रोफेसर समिति और कॉन्फ्रेंस मैं पार्टिसिपेट करना, एडमिशनस के लिए इंटरव्यू लेना आदि प्रोफेसर बनने के बाद ये सभी कार्य करने होते है कहा जा सकता है कि प्रोफेसर का पद बहुत ही जिम्मेदारी वाला होता है यह एक बहुत ही प्रतिष्ठित पद है.

प्रोफेसर की सैलरी

किसी भी जॉब को करने से पहले व्यक्ति के मन में उससे मिलने वाले वेतन के बारे में जानने की जिज्ञासा उत्पन्न होती है तो हम आपको बता दें कि प्रोफेसर की सैलरी उनके पद के स्तर के आधार पर अलग अलग तय की गई है अनुभव के आधार पर प्रोफेसर्स को प्रोमोट किया जाता है और उसी के तहत उन्हें वेतन भी दिया जाता है जहाँ असिस्टेंट प्रोफेसर का वेतन ₹75,000 से लेकर ₹67,000 प्रतिमाह तक होता है वही एसोसिएट प्रोफेसर की सैलरी  75,000से  85,000 के बीच में होती है एसोसिएट प्रोफेसर प्रोमोट होने के बाद प्रोफेसर के पद पर नियुक्तहोता है जिसे लगभग ₹1,00,000 प्रतिमाह वेतन दिया जाता है.

आशा है कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया आज का लेख “प्रोफेसर कैसे बने” पसंद आया होगा यदि आपको ऐसे ही किसी और विषय के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment