इंश्योरेंस एजेंट कैसे बने? | इंश्योरेंस एजेंट कौन होता है?

आज के समय में सभी व्यक्ति अपना करियर बनाना चाहते हैं शिक्षित व्यक्ति के लिए बहुत सारी जॉब अपॉर्च्युनिटीज होती है उन्हीं में से एक इंश्योरेंस एजेंटकी जॉब भी होती है वर्तमान समय में ज्यादातर लोग अपना इंश्योरेंस करवातें हैं जिससे यदि उनके साथ किसी भी प्रकार की दुर्घटना या अनहोनी हो जाए तो उसके बाद उनके परिवार के पालन पोषण के लिए उन्हें आर्थिक सहायता प्राप्त हो सके यदि आप इंश्योरेंस एजेंट बनकर कमाई करना चाहते हैं और इससे संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आज केइस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको सभी जानकारियां प्रदान करेंगे इसलिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें.

इंश्योरेंस एजेंट कौन होता है?

इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा अपनी पॉलिसी को बेचने के लिए इंश्योरेंस एजेंट नियुक्त किए जाते हैं  जिनका कार्य लोगों के पास जाकर उन्हें बीमा पॉलिसी के बारे में समझाना तथा उसे बेचना होता है यदि कोई भी व्यक्ति बीमा पॉलिसी लेता है तो एजेंट द्वारा उससे कुछ महत्वपूर्ण व्यक्तिगत जानकारियां ली जाती है और उसका बीमा कर दिया जाता है

insurance agent Kaise bane in Hindi
insurance agent Kaise bane in Hindi

जिसके बाद बीमा धारक द्वारा निर्धारित प्रीमियम का भुगतान किया जाता है जिसमें से कुछ प्रतिशत कमिशन इंश्योरेंस एजेंट को प्राप्त होता है जिससे इंश्योरेंस एजेंट की कमाई होती है किंतु बीमा पॉलिसी बेचना इतना आसान काम नहीं है इसके लिए लोगों को बहुत ही गहराई से बीमा पॉलिसी के लाभ के बारे में समझाना पड़ता है जिसके लिए बीमा एजेंट में धैर्य होना बहुत ही आवश्यक है इंश्योरेंस एजेंट बनने के बाद आपको निम्नलिखित कार्य करने होंगे.

  • इंश्योरेंस पॉलिसी के बारे में लोगों को समझना
  • पॉलिसी खरीदने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना
  • इंश्योरेंस पॉलिसी के लाभ के बारे में लोगों को जागरूक करना
  • इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रचार करना
  • लोगों को उनकी आर्थिक स्थिति और जरूरत के हिसाब से पॉलिसी बेचना
  • बीमा धारक को भुगतान से संबंधित रिमाइंडर देते रहना
  • पॉलिसी रिन्यूअल के बारे में सूचित करना
  • इंश्योरेंस कंपनी द्वारा दिए गए टारगेट को निर्धारित समय में पूरा करना

इंश्योरेंस के प्रकार

इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा दो प्रकार के इंश्योरेंस पालिसी प्रदान किए जाते हैं पहला लाइफ इंश्योरेंस और दूसरा जनरल इंश्योरेंस.

लाइफ इन्श्योरेन्स

यदि कोई व्यक्ति इंश्योरेंस एजेंट द्वारा अपना लाइफ इंश्योरेंस करवाता है तो यदि उसे किसी भी प्रकार कीबड़ी शारीरिक क्षति पहुंचती है या व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को निर्धारित धनराशि प्रदान की जाती है जिससे बीमाधारक की मृत्यु के पश्चात उसके परिवारके पालन पोषण में सहायता हो सके.

जनरल इंश्योरेंस

यदि किसी व्यक्ति द्वारा जरनल इंश्योरेंस लिया जाता है तो वह छोटे समय के लिए होता है यदि निर्धारित समय में किसी भी प्रकार की कोई क्षति पहुंचती है तो इंश्योरेंस कंपनी द्वारा बीमा धारक को निर्धारित धनराशि प्रदान की जाती है जनरल इन्श्योरेन्स में एक मुश्त प्रीमियम का भुगतान करना होता हैयह कम समय की इंश्योरेंस पॉलिसी होती है जो किसी दुकान, ऑटोमोबाइल, हेल्थ आदि के लिए ली जाती है.

इंश्योरेंस एजेंट कैसे बने?

इंश्योरेंस एजेंट बनने के लिए आपको किसी भारतीय बीमा विनियामक विकास प्राधिकरण(आईआरडीए) द्वारा पंजीकृत इंश्योरेंस कंपनी में आवेदन करना होगा यदि आप में इंश्योरेंस कंपनी द्वारा निर्धारित सभी योग्यताएं होंगी तो आपको इंश्योरेंस एजेंट के तौर पर नियुक्त कर दिया जाएगा जिसके पश्चात आपको संबंधित ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिसमें आपको लोगों से बातचीत करना, उन्हें अपनी बात समझना, पॉलिसी बेचना, ग्राहकों को डील करना आदि सिखाया जाएगा जिसके पश्चात आपको बीमा करने के लिए भेज दिया जाएगा यदि आप बीमा पॉलिसी के लाभ साझाकर लोगों को बीमा बेंच देते है

तो आपको एक सफल इंश्योरेंस एजेंट माना जाएगा बीमा करने के पश्चात् आपकी कमाई बीमा धारक के प्रीमियम के भुगतान पर निर्भर करती है जितना ज्यादा प्रीमियम का भुगतान होगा आपको उतना ही ज्यादा कमीशन प्राप्त होगा जिससेआप कमाई कर सकेंगे कंपनी द्वारा दिए गए टारगेट को यदि आप निर्धारित समय में पूरा कर लेते हैं तो आपको इंसेंटिव भी दिया जाता है.

इंश्योरेंस एजेंट बनने के लिए योग्यता

यदि आप इंश्योरेंस एजेंट बनना चाहते हैं तो आपको अपनी चुनी हुई इंश्योरेंस कंपनी द्वारा निर्धारित सभी पात्रता मापदंडों को पूरा करना होगा इंश्योरेंस एजेंट बनने के लिए कैंडिडेट को बारहवीं पास करना आवश्यक है और साथ ही उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए उसके पश्चात आप आवेदन कर सकेंगे आवेदन के पश्चात 100 घंटे की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी और आपको इंश्योरेंस एजेंट के तौर पर नियुक्त कर दिया जाएगा जिसके बाद आप अपना कार्य कर सकेंगे.

इंश्योरेंस एजेंट बनने के लाभ

  • इंश्योरेंस एजेंट बनने के बाद पॉलिसी बेचने के लिए भ्रमण करना पड़ता है जिससे आप कई अच्छीअच्छी जगह घूम सकेंगे.
  • लोगों से कम्यूनिकेट करने का मौका मिलेगा जिससे आप समाज के बारे में और गहराई से जान सकेंगे.
  • इंश्योरेंस एजेंट बनकर आप अपनी क्षमता अनुसार चाहे जीतने पैसे कमा सकेंगे इसके लिए आपको फिक्स सैलरी पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा.
  • यदि आप एक मंझे हुए इंश्योरेंस एजेंट बन जाते हैं तो आपको विदेश जाने का भी मौका प्रदान किया जाता है.
  • इंश्योरेंस एजेंट बनने के बाद यदि आप सेमिनार ज्वॉइन करते हैं तो आपको मुफ्त खाना प्रदान किया जाता है और साथ ही आपको लग्जरी होटल में जाने का मौका मिलता है.
  • यदि आप एक इंश्योरेंस एजेंट है तो आप इसके साथ साथ अपना कोई अन्य कार्य भी कर सकते हैं जिससे आपकी दोगुनी कमाई हो सकेगी.
  • इंश्योरेंस एजेंट बनने के बाद आप अपने मर्जी के मुताबिक काम कर सकेंगे आपको किसी की गुलामी नहीं करनी पड़ेगी.
  • इंश्योरेंस एजेंट स्वयं के बॉस होते हैं उनका कोई बॉस नहीं होता है.
  • इंश्योरेंस एजेंट की जॉब के लिए आपको ज़्यादा पढ़ाई करने की जरूरत नहीं पड़ती है आप सिर्फ बारहवीं पास करने के बाद ही इंश्योरेंस एजेंट बन सकते हैं.

इंश्योरेंस एजेंट की सैलरी

किसी भी जॉब को करने से पहले व्यक्ति के मन में उससे मिलने वाले वेतन के बारे में जानने की जिज्ञासा उत्पन्न होती है तो हम आपको बता दें कि इंश्योरेंस एजेंट बनने के बाद आपकी कमाई आपके द्वारा बेची गई बीमा पॉलिसी पर निर्भर करती है आप जितनी ज्यादा पॉलिसी बेचेंगे आपको उतनी ज्यादा कमिशन प्राप्त होगी कहने का मतलब है की एक इंश्योरेंस एजेंट की कमाई उसकी कार्य क्षमता पर निर्भर करती है कुछ एजेंट महीने में कम पैसे कमाते हैं तो कुछ लाखों रुपए कमाते हैं और कुछ की तो मासिक कमाई करोड़ों में होती है इसलिए यदि आप एक इंश्योरेंस एजेंट बनने के बारे में सोच रहे हैं तो आपके लिये अच्छा करियर ऑप्शन हो सकता है.

आशा है कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया आज का आर्टिकल “इंश्योरेंस एजेंट कैसे बने” पसंद आया होगा यदि आप ऐसे ही किसी अन्य विषय के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment