फिल्म प्रोड्यूसर कैसे बनें? | फ़िल्म प्रोड्यूसर कौन होता है?

आज के समय में चाहे युवा हो या वृद्ध  या फिर बच्चे सभी को फिल्मों का क्रेज है सभी लोग फ़िल्म देखना बहुत पसंद करते हैं ऐसे में फ़िल्म जगत में बहुत ही अच्छा करियर स्कोप है यदि आप एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में दिलचस्पी रखते हैं और फ़िल्म बनाने के शौकीन हैं तो आप फ़िल्म प्रोड्यूसर बन सकते है आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको फ़िल्म प्रोड्यूसर क्या होता है, फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए योग्यता, इससे संबंधित कौन से कोर्स किए जा सकते हैं और फ़िल्म कैसे बनाई जाती है इन सभी विषयों के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे इसलिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें.

film producer kaise bane in hindi
film producer kaise bane in hindi

फ़िल्म प्रोड्यूसर कौन होता है?

फ़िल्म प्रोडक्शन करने वाला व्यक्ति फ़िल्म प्रोड्यूसर कहलता है फ़िल्म प्रोडक्शन मेंराइटर द्वारा लिखी स्क्रिप्ट पर काम करने वाले अभिनेता, उसे रिकॉर्ड करने वाले कैमरामैन, डायरेक्ट करने वाले डायरेक्टर,एडिटिंग करने वाले एडिटर, और साथ ही संगीतज्ञ भी आते हैं जिनका चुनाव फ़िल्म प्रोड्यूसर करता है और ये सभी फ़िल्म प्रोड्यूसर के अंडर काम करते हैं फ़िल्म की स्क्रिप्ट लिखे जाने से लेकर फ़िल्म बनने, उसकी शूटिंग,एडिटिंग और उनके रिलीज होने तक सभी फाइनल अप्रूवल फ़िल्म प्रोड्यूसर ही देता है फ़िल्म में होने वाले मेजर डिसीज़न्स एक फिल्म प्रोड्यूसर ही लेता है जैसे एक फिल्म डायरेक्टर कास्ट को काम समझाने, कैमरामैन एंगल्स का ध्यान रखने और एडिटर को उसका काम सही ढंग से करने में मदद करता है वैसे ही एक फिल्म प्रोड्यूसर उन सभी कामों के सही और एक्यूरेट होने का ग्रीन साइन देता है और साथ ही फ़िल्म फ़िल्म बनाने में आने वाले खर्चे का भुगतान फ़िल्म प्रोड्यूसर को ही करना होता है किंतु यह खर्च फ़िल्म प्रोड्यूसर द्वारा थोड़ा थोड़ा करके किया जाता है.

एक्टर (Actor) कैसे बने?

फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए योग्यता

  • फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए आपको इससे संबंधित शिक्षा प्राप्त करनी होगी तभी आप एक अच्छे फ़िल्म प्रोड्यूसर बन सकेंगे.
  • यदि आप बारहवीं के बाद फ़िल्म प्रोड्यूसर बनना चाहते हैं तो आपको बैचलर डिग्री प्राप्त करनी होगी.
  • यदि बैचलर कोर्स करने के बाद आप फ़िल्म प्रोड्यूसर बनना चाहते हैं तो आपको संबंधित कार्य में पोस्ट ग्रैजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी होगी.
  • ग्रैजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन में आपके 40% से ज्यादा अंक होने चाहिए.
  • कैंडिडेट में कुछ विशेष स्किल होनी चाहिए जैसे- चीजों का प्रबंधन करना, वर्कर्स को लीड करना, एडिटिंग, साउंड का नॉलेज आदि.

फ़िल्म प्रोड्यूसर के कार्य

  • फ़िल्म के बजट आपको मेंटेन करना
  • सभी कलाकारों और टेक्नीशियनों तो उनके कार्य के पैसे देना
  • सूटिंग के स्थान यानि स्टूडियो का चयन करना और संबंधित धनराशि का भुगतान करना
  • फ़िल्म निर्माण के लिए सभी महत्वपूर्ण फैसले लेना
  • फ़िल्म कंप्लीट होने के बाद सभी डिस्ट्रीब्यूटर्स को दिखाना
  • डिस्ट्रीब्यूटर्स द्वारा फ़िल्म पसंद आने परफ़िल्म का सौदा पक्का हो जाता है और जैसे जैसे फ़िल्म बनती जाती है वैसे वैसे प्रोड्यूसर को पैसे मिलते रहते है और आगे की फ़िल्म बनती रहती है
  • फ़िल्म बेचने के बाद आने वाले पैसों में सभी खर्चों का भुगतान करने के बाद शेष धनराशि प्रोड्यूसर की कमाई होती है

फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

  • फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए आपको सबसे पहले फ़िल्म बनाने से संबंधित ज्ञान लेना आवश्यक है.
  • आप किसी भी कॉलेज से प्रोड्यूसर बनने के लिए संबंधित कोर्स करके अपनी स्किल सुधार सकते हैं.
  • आपको फ़िल्म के बारे में संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए.
  • लोगों को किस तरह की फ़िल्म पसंद आएगी उसके हिसाब से फ़िल्म का निर्माण करना होगा.
  • म्यूजिक, डायरेक्टर, डायलॉग राइटर कैमरामैन आदि सभी टीम मेंबर्स को चुनने का कार्य करना होगा.
  • फ़िल्म बनाने के लिए चीजों को मैनेजमेंट करना बहुत जरूरी है.
  • यदि फ़िल्म जगत में पहले से किसी भी प्रकार का कार्य कर लिया जाए उसके पश्चात फ़िल्म प्रोड्यूसर बनना सरल हो जाता है.
  • किसी वरीष्ठ प्रोड्यूसर के साथ काम करके आप उससे अच्छा नॉलेज प्राप्त कर सकते हैं.
  • आप किसी अच्छे प्रोड्यूसर के असिस्टेंट के तौर पर कार्य करके एक प्रोड्यूसर बन सकते हैं और फिर फ़िल्म प्रोडक्शन कर सकते हैं.

शॉर्ट मूवी कैसे बनाएँ

प्रोड्यूसर द्वारा अपने करियर की शुरुआत करते समय शार्ट मूवी ही बनाना उचित समझा जाता है जैसे कॉमेडी, मोटिवेशन, छोटे ड्रामा आदि जो कि20 से 30 मिनट के होते हैं.

  • शॉर्ट मूवी बनाने के लिए सबसे पहले फ़िल्म का विषय सेलेक्ट किया जाता है.
  • और फिर किसी राइटर द्वारा कहानी को लिखवाया जाता है कहानी के पात्र और संवाद बिल्कुल अनोखे होने चाहिए जिससे लोग उसे पसंद करें.
  • इसके बाद स्क्रिप्ट तैयार की जाती है जिसमे उस फ़िल्म के चित्रात्मक प्रदर्शन के लिए कौन सी वस्तुएं और व्यक्ति को कौन सा रोल दिया जाना चाहिए, स्थान का चुनाव आदि शामिल होते हैं जिससे शूटिंग करने में समस्या उत्पन्न नहीं होती है.
  • इसके बाद फ़िल्म के कैरेक्टर्स का चुनाव किया जाता है यदि कोई नया एक्टर हैं और फ़िल्म जगत में कार्य शुरू करना चाहते हैं तो आप उसे कामदे सकते हैं जिसके लिए आपको कम पैसे देने होंगे.
  • इसके बाद फ़िल्म बनाने के लिएलोकेशन सेलेक्ट करनी होगी जहाँ शूटिंग करनी है.
  • इन सभी चीजों का चयन करने के पश्चात एक प्रोड्यूसर अपनी फ़िल्म की शूटिंग शुरू करता है.

फिल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए कोर्सेज

  • बीए डायरेक्शन
  • एडवांस्ड डिप्लोमा इन फिल्म
  • सर्टिफिकेट कोर्स इन फिल्म डायरेक्शन
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फिल्म डायरेक्शन
  • फिल्म डायरेक्शन
  • प्रोसेसिंग एंड प्रिंटिंग
  • फिल्म फॉर मोशन पिक्चर
  • शूटिंग फॉर्मेट
  • डिजिटल फिल्ममेकिंग के प्रकार
  • मास कॉम्युनिकेशन

फ़िल्म प्रोड्यूसर बनने के लिए टॉप डिप्लोमा कोर्सेज

  • डिप्लोमा इनसिनेमाटोलॉजी
  • पोस्ट ग्रैजुएशन डिप्लोमा इन टीवी डायरेक्शन एंड स्क्रिप्ट
  • एनसीवीटी पीजी डिप्लोमा इनसिनेमाटोलॉजी
  • डिप्लोमा इन कैमरा एंड लाइटिंग टेक्नीक्स
  • डिप्लोमा इन मीडिया एंड प्रोडक्शन मैनेजमेंट
  • डिप्लोमा इन राइटिंग फॉर फ़िल्म एंड टेलीविजन
  • डिप्लोमा इन वीडियो एडिटिंग एंड साउंड रिकॉर्डिंग टेक्नीक्स
  • डिप्लोमा इन डिजिटल फोटोग्राफी
  • डिप्लोमा इन डॉक्यूमेंट्री फिल्म मेकिंग

फ़िल्म प्रोड्यूसर की सैलरी

किसी भी कार्य को करने से पहले व्यक्ति के मन में उससे मिलने वाले वेतन के बारे में जानने की जिज्ञासा जरूर होती है तो हम आपको बता दें कि फ़िल्म प्रोड्यूसर की कमाई इस बात पर निर्भर करती है कि फ़िल्म कितनी हिट हुई है और उससे कितनी कमाई हुई है इसकेबाद सभी खर्चों जैसे कलाकारों तथा टेक्नीशियन की सैलरी देने के पश्चात्शेष जितनी धनराशि बची है वही फ़िल्म प्रोड्यूसर की कमाई होती है.

क्रिकेटर कैसे बने

आशा है कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया आज का लेख“फ़िल्म प्रोड्यूसर कैसे बने” पसंद आया होगा यदि आप ऐसे ही किसी अन्य विषय के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment